नई दिल्ली। भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) ने कहा है कि अगर सरकार से राहत मिलती  है तो अभ्यास शिविर शुरु किया जा सकता है पर इस दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये कुछ सुरक्षा उपाय अपनाने होंगे जिसमें कम वेंटीलेशन वाले चेंजिंग रूम हटाये जाने, ट्रेनिंग उपकरणों को इस्तेमाल के बाद हर बार संक्रमण रहित करना, शिफ्ट में जिम के इस्तेमाल के अलावा ‘स्पारिंग’ (जोड़ीदार के साथ अभ्यास) पर प्रतिबंध शामिल है। साइ ने सुरक्षा उपायों का एक विस्तृत मसौदा तैयार किया है जिनका इस महीने के अंत में अपने ट्रेनिंग केंद्रों को फिर से खोलने से पहले पालन किया जायेगा। छह सदस्यीय समिति ने 33 पन्ने का यह दस्तावेज बनाया है, जिसे अभी खेल एवं स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा स्वीकृति दिया जाना बाकी है। इस दस्तावेज में प्रस्तावों के अनुसार वायरस से बचने के लिये आरोग्य सेतु एप सभी खिलाड़ियों और स्टाफ के लिये डाउनलोड करना अनिवार्य होगा, ट्रेनिंग स्थलों पर कड़ाई से सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करना होगा, ड्यूटी पर मौजूद चिकित्सा कर्मियों को पीपीई किट का इस्तेमाल करना होगा, स्वच्छता संबंधित उपायों को बढ़ाना होगा और खिलाड़ियों के स्वास्थ्य पर कड़ी निगरानी रखना शामिल है। साइ ने इस दस्तावेज को राष्ट्रीय खेल महासंघों (एनएसएफ) के पास भेज दिया कि वे सिफारिशों में अपना पक्ष दे सकें। साथ ही कहा कि अंत में ट्रेनिंग फिर से शुरू होना गृह मंत्रालय के दिशानिर्देशों पर निर्भर करेगा। अगर गृह मंत्रालय  तीसरे लॉकडाउन के बाद अपने आगामी दिशानिर्देशों में खेल गतिविधियों पर रोक बरकरार रखता है जैसा कि पिछले दिशानिर्देशों में था तो खेल मंत्रालय ट्रेनिंग शुरू नहीं कर सकता।